मेरी ब्लॉग सूची

गुरुवार, 8 मार्च 2012

जूता चल गया


ब्रदर जूता राखिये, बड़े काम की चीज
कई बार सिखलाये ये, कुछ को बड़ी तमीज
कुछ को बड़ी तमीज, नया ये अस्त्र बन गया
बम-गोली से अधिक, सिद्ध ये शस्त्र बन गया
कह दानव कविराय, होये देसी या विदेसी
तबीयत करे दुरुस्त, बात कुछ इसमें ऐसी

गुरुवार, 23 फ़रवरी 2012

अर्धार्धान्गिनी शब्द - और एक कविता के अंश पर टिप्पणी...

पंक्तियां आपकी पढ़कर उत्सुकता  बढती जाती है
इतनी देरी से रचना क्यों फेसबुक पर लिखी जाती है,
मैं आशावान बहुत हूँ विश्वास बनाये रखता हूँ,
जल्दी होगी ये कृति पूरी ये आस लगाये रखता हूँ,
इस रचना को पढ़ने हेतु  मैं आउट-लॉग  नहीं होता,
हो कितना भी कुहरा नभ पर मन मेरे फॉग नहीं होता,
ये करता हूँ विनती प्रभु से हर कोई बने  भाग्यशाली,
हर एक बने जीजा जग में हर कोई पाए इक साली.. 
चाहे तो मिले सगी कोई या फिर रिश्ते में  दूर सही,
रिश्ते तो बहुत बने जग में लेकिन ऐसा कोई भी नहीं,
मैं चीज कौन क्या हूँ मैं, क्या गिनती मेरी यहाँ खास,
साली पर कविता उत्तम लिख चुके पंडित गोपाल व्यास,
साली पर रचना की बारी अब आई मुक्त कवि के पास,
सालों तुम थोड़ा धीर धरो सालों तुम न होवो उदास,
गर साली खास रही जुग से तो खासम-खास रहे साले,
साली पर लिखी गयी कविता मुक्तक सालों पर रच डाले...

श्री मुकेश गुप्ता जी ने अभी अपनी कविता का एक अंश पोस्ट किया और मुझे अर्धार्धान्गिनी शब्द इतना अच्छा लगा कि उसी सिलसिले में कमेन्ट यूँ नुमायां हुआ, जिसे मैं अपने ब्लॉग पर भी पोस्ट कर रहा हूँ...

रविवार, 8 जनवरी 2012

वोटर को प्रोत्साहन.

भैया जी पकड़े गए लाखों  रुपये  संग,
आयोगी करने लगे भैयाजी को तंग,
भैयाजी को तंग कहाँ ये नोट जा रहे,
गलत नहीं ये काम अभी समझा रहे,
हो ज्यादा मतदान ईसी ये कहता सब को,  
इसी हेतु प्रोत्साहित करता  मैं वोटर को.

मंगलवार, 22 फ़रवरी 2011

मुश्किलों भरा सफर

अमूम
रोज ही होता है. घर से निकलते ही शुरू हो जाता है. लोग बड़े दूरदर्शी हैं. बहुत आगे की सोचते हैं. सड़कें इतनी चौड़ी हो जायें कि चोर-उचक्के आसानी से भाग सकें इसलिये सबसे पहले तो घर के आगे दी हुई खाली जमीन का अच्छा प्रयोग करते हैं. उसे लोहे के जाल से घेर देते हैं और फिर उसमें साग-सब्जी, फूल इत्यादि उगा लेते हैं. सदुपयोग. पैसा भी बचा, हरित क्रान्ति भी गयी. कुछ लोग और भी अच्छा काम करते हैं, गाडियां सड़क पर खड़ी नहीं करते इसलिये घर के आगे लोहे का जाल और फिर जाल में गाड़ी.
चौड़ी
सड़क का फायदा क्या है आखिर. निकलना तो वहीं से है, जल्दी का काम शैतान का. इसलिये आराम से चलना चाहिये, आराम से तभी चला जा सकता है जब दो चार बन्दे आपके आगे हों और वे तभी होंगे जब सड़कें गलियों में, और गली करीना-कटरीना जैसी किसी हसीना की कमर की तरह बलखाती-लहराती और दुबली-पतली होगी. लोहे के इस जाल से कई लाभ होते हैं जैसे कि लोगों को रोजगार मिलना, लोहे के मिल वाले को, डीलर को, स्टाकिस्ट को, राज को, मजदूर को, मिस्त्री को और कभी नगर निगम को भी. जाल होंगे तभी तो हटाये जायेंगे.
सड़कों
को और भी उपायों से इस काबिल किया जा सकता है कि उन पर चोर-उचक्के तेजी से दौड़ सकें, जैसे कि सड़कों पर गड्ढे बनाना. गड्ढ़े बनाने के लिये सड़कों पर खम्भे लगवाये जा सकते हैं, स्थायी और अस्थायी दोनों ही तरह के. अस्थाई जल्दी गड्ढ़ा कर देते हैं और स्थाई थोड़ी देर से. धार्मिक-सांस्कृतिक और बाकी कई कार्यक्रम जिनके अन्त में "इक" आता हो, आसानी से सड़क पर निपटाये जा सकते हैं जिनमें खम्भे गाड़े जाते हैं और अन्त में जिनका सुफल गड्ढ़ों के रूप में सामने आता है.
मकान
-दुकान के आगे नाले पर स्लैब डालकर फिर धीरे से उस पर पहले कच्चा फिर पक्का सा दिखाई देने वाला और अन्त में वाकई में पक्का निर्माण किया जा सकता है, जिससे कि सड़क की चौड़ाई को काबू में किया जा सकता है. गली और सड़कों पर ट्रैफिक की सनन-सनन को रोकने के लिये मुहल्ले-कालोनी के प्रवेश द्वारों पर बड़े-बड़े दरवाजे लगाये जाते हैं और धीरे-धीरे एक ही दरवाजे को आवागमन के लिये प्रयोग किया जाता है, इससे हमें प्राचीन काल में बनाये जाने वाले सुदृढ़ किलों में रहने का भी आनन्द मिल जाता है. जिस गली में हर पांच मकानों के बाद एक स्पीड ब्रेकर हो, उस गली के निवासियों पर भारी जुर्माना लगाया जाना चाहिये, यद्यपि पचास-साठ प्रतिशत जगह ऐसा नहीं होता फिर भी.
बाजार
में भी दुकानदार भाईयों को इस तरह से दुकानें लगाना चाहिये कि आने-जाने वालों को गुजरते-गुजरते ही दुकान में रखे पूरे माल की जानकारी इत्मीनान से हो जाये. एक दुकान के आगे से गुजरते समय कम से कम पांच मिनट तो लगें ही, इस तरह से दुकानों का संयोजन करना चाहिये. फिर इस सब से भी तरक्की को बल मिलता है. गड्ढ़े हुये, सड़क नई बनेगी. नई किसे अच्छी लगेगी. और अगर गाड़ी टूटी तो गाड़ी सुधरेगी. और सुधरेगी तो सुधारने वाले की आर्थिक तरक्की होगी. और फिर वह गुजरना भी क्या गुजरना जिसकी कोई निशानी मिले. जितनी बार निकलो, गाड़ी पर उतनी ही बार निशान पड़े, जिससे कि उसे देखते ही पहचान जाये कि फलां जगह होकर रहे हैं, बिल्कुल उसी टैग की भांति जो आपके लगेज पर विदेश से आने पर लगा होता है.
खैर
, यह तो कुछ हल्का-फुल्का मजाक था. असल बात यह है कि लोगों ने सड़कें तंग कर दी हैं, अपने हिसाब से बन्द कर दी हैं और जगह-जगह गड्ढ़े खुदवा दिये, स्पीड ब्रेकर बना दिये. एक गली तो ऐसी है, जहां हर तीसरे मकान के आगे स्पीड ब्रेकर बने हैं. शाहदाना चौराहे से श्याम गंज चौराहा पार करने में कभी कभी तो आधा घण्टा लग जाता है. श्याम गंज से बांस मण्डी की तरफ जाने पर सड़क के बिल्कुल बीच में रिक्शे, स्कूटर खड़े रहते हैं और यह डिवाइडर सड़क को दो पतली-पतली गलियों में बदल देता है. बरेली कालेज के पूर्वी द्वार से आगे बढ़ते ही सौन्दर्य बढ़ाने को डिवाइडर के बीच में थोड़ी-थोड़ी दूरी पर लोहे के गोल जाल में बोगेन-विलिया (शायद?) लगाई गयी थी जो अतृत्प इच्छाओं की तरह जाल से बाहर फैल गयी है. इससे बहुत बचकर निकलना पड़ता है. रोज. कभी कभी बड़े उद्दण्ड चालक मिल जाते हैं, जो बड़ा इरीटेट करते हैं. अब यहां तो भैंस वाला ही बड़ा पड़ता है, लट्ठ जो है उसके पास.आटो का कोई भरोसा नहीं, कब दांये मुड़े या बांये. वैसे यहां चलने का सबसे अच्छा तरीका है कि न दांये देखो, न बांये, चलो मुंह उठाये. सामने वाला अपने आप बचेगा. आज से तकरीबन बीस साल पहले बरेली कालेज में पढ़ने जाता था, कुतुबखाने से होकर. तब और अब. भीड़ कम से कम बीस गुना ही बढ़ गयी होगी. भीड़ ही नियति है क्या और भीड़ की नियति क्या है.समझ नहीं आ रहा.,

गुरुवार, 17 फ़रवरी 2011

सवा लाख डालर

सवा लाख लेकर चले, डालर अपने संग
पकड़े पर कहने लगे, करते हमको तंग
करते हमको तंग, न जानूं नियम-कायदे
अब जाकर मालूम हुये, पढ़ने के फायदे   
कह ----- कविराय, तजो अब सभी बहाने  
उगलो सच्ची बात, छोड़ कर राग पुराने