मेरी ब्लॉग सूची

गुरुवार, 8 मार्च 2012

जूता चल गया


ब्रदर जूता राखिये, बड़े काम की चीज
कई बार सिखलाये ये, कुछ को बड़ी तमीज
कुछ को बड़ी तमीज, नया ये अस्त्र बन गया
बम-गोली से अधिक, सिद्ध ये शस्त्र बन गया
कह दानव कविराय, होये देसी या विदेसी
तबीयत करे दुरुस्त, बात कुछ इसमें ऐसी

6 टिप्‍पणियां: